RO/ARO Preparation Books in Hindi

UPPSC RO/ARO Preparation Books In Hindi

उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (यूपीपीएससी) द्वारा आयोजित लोकप्रिय परीक्षाओं में उत्तर प्रदेश समीक्षा अधिकारी की परीक्षा एक है, इस परीक्षा में इंटरव्यू नहीं होता| इस पद पर अभ्यर्थी का चयन लिखित परीक्षा के माध्यम से होता है| इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करनें वाले अभ्यर्थियों की नियुक्ति सामान्यत: सचिवालय भवन, लखनऊ एवं उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग भवन, इलाहाबाद में होती है| यह परीक्षा काफी कठिन होती है, इसके लिए आपको लगन के साथ कठिन परिश्रम करना होगा| इस परीक्षा में सफलता प्राप्त करनें के लिए आपको परीक्षा पाठ्यक्रम के साथ पढ़नें के लिए सटीक पुस्तकों की जानकारी होना आवश्यक है| इस पेज पर आपको इस परीक्षा से सम्बंधित पुस्तकों के बारे में क्रमवार जानकारी दे रहे है, जिसकी सहायता से आप परीक्षा में आसानी से सफलता प्राप्त कर सकते है|

प्रारंभिक परीक्षा हेतु पाठ्य पुस्तके (Books For Prelims Exam)

 प्रारंभिक परीक्षा पेपर -1 (Prelims Exam Paper 1)

  • भारतीय भूगोल- एनसीईआरटी की कक्षा 11 की भौतिक पर्यावरण, परीक्षावाणी की भारतीय भूगोल और घटनाचक्र पूर्वावलोकन।
  • विश्व भूगोल- महेश बर्णवाल और घटनाचक्र पूर्वावलोकन।
  • भारतीय अर्थव्यवस्था- प्रतियोगिता दर्पण अतिरिक्तांक और घटनाचक्र पुनरावलोकन। यदि आपने भारतीय अर्थव्यवस्था कभी नहीं पढ़ी है और कुछ कठिन लगता है, तो आप परीक्षावाणी की भारतीय अर्थव्यवस्था से शुरू करें, क्योंकि इसमें बहुत ही सरल भाषा में राष्ट्रिय आय, कृषि आर्थिकी, बैंकिंग और पूँजी बाजार, विदेश व्यापार और अंतर्राष्ट्रीय आर्थिक संगठनों की अवधारणात्मक और तथ्यात्मक प्रस्तुति की गयी है। उसके बाद आप प्रतियोगिता दर्पण की भारतीय अर्थव्यवस्था अतिरिक्ताङ्क पढ़ सकते हैं।
  • संविधान के लिए वाणी की भारतीय राजव्यवस्था और घटनाचक्र पूर्वावलोकन।
  • कृषि के लिये घटनाचक्र की किताब ‘कृषि प्रौद्योगिकी’ और घटनाचक्र पूर्वावलोकन।
  • इतिहास : यूनिक या स्पेक्ट्रम की भारतीय इतिहास, और विशेष रूप से से भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन के जटिल तथ्यों के लिए किरण कॉम्पटीशन और घटनाचक्र पूर्वावलोकन।
  • विज्ञान के लिए सिर्फ घटनाचक्र पूर्वावलोकन पर्याप्त है और घटनाचक्र समसामयिक वार्षिकी के विज्ञानं प्रौद्योगिकी खंड।
  • जनसंख्या और नगरीकरण के लिए सिर्फ वाणी की किताब।
  • उत्तर प्रदेश विशेष के लिए सिर्फ वाणी की किताब पर्याप्त है।
  • समसामयिकी – घटना चक्र + प्रतियोगिता दर्पण

प्रारंभिक परीक्षा पेपर -2 (Prelims Exam Paper 2)

  • हरदेव बाहरी की पुस्तक से अध्ययन कर सकते है |
  • यूथ प्रकाशन का आर ओ/ ए आर ओ सामान्य हिंदी |
  • एस आर पब्लिकेशन की समीक्षा अधिकारी हिंदी पुस्तक का अध्ययन करें ।
  • एस आर पब्लिकेशन और शिल्पी प्रकाशन का समीक्षा अधिकारी पिछले वर्ष का हिंदी हल पेपर और प्रैक्टिस सेट ।

समीक्षा अधिकारी मुख्य परीक्षा (Samiksha Adhikari Main Exam)

आर.ओ. मुख्य परीक्षा के अंतर्गत चार प्रश्न-पत्र होते हैं, यह परीक्षा कुल 400 अंकों की होती है |

1.सामान्य अध्ययन पाठ्यक्रम (General Studies Course)

यह प्रश्न पत्र प्रारंभिक परीक्षा पाठ्यक्रम के अनुसार होता है, प्रथम प्रश्नपत्र सामान्य अध्ययन में कुल 120 वस्तुनिष्ठ प्रश्नों को  दो घंटे की समय सीमा में हल करना होता है, जिसके लिये अधिकतम 120 अंक निर्धारित है |

2.सामान्य हिंदी एवं आलेखन (General Hindi and Drafting)

द्वितीय प्रश्नपत्र सामान्य हिंदी एवं आलेखन (वर्णनात्मक) के लिये अधिकतम 100 अंक निर्धारित होते है, जिसका उत्तर अधिकतम दो घंटे तीस मिनट में लिखना होता है |

  • दिए हुए गद्यांश का शीर्षक, सारांश एवं रेखांकित अंशों की व्याख्या |
  • किसी दिए हुए सरकारी पत्र का सारणी रूप में सार लेखन |
  • पत्राचार से सम्बंधित शासकीय/अर्धशासकीय पत्र, कार्यालय आलेख/ज्ञाप/परिपत्र, विज्ञप्ति/टिप्पणी एवं प्रतिवेदन/अनुस्मारक आदि |
  • पारिभाषिक शब्दावली (प्रशासनिक एवं वाणिज्यिक) के अंतर्गत पाँच शब्द अंग्रेजी से हिन्दी,पाँच शब्द हिन्दी से अंग्रेजी, मुहावरे तथा लोकोक्तियां, कम्प्यूटर ज्ञान आदि से सम्बंधित प्रश्न पूछें जाते है |
  • हिंदी साहित्य का तथ्यपरक इतिहास लेखक : सतीश कुमार सिंह प्रकाशक – नालंदा पब्लिशिंग हाउस इलाहाबाद

3.सामान्य शब्द एवं हिंदी व्याकरण (Common Words And Hindi Grammar)

तृतीय प्रश्नपत्र सामान्य शब्द एवं हिंदी व्याकरण (वस्तुनिष्ठ) में कुल 30 प्रश्न पूछे जाते हैं, जिसके लिये अधिकतम 60 अंक निर्धारित है, इसका उत्तर अधिकतम तीस मिनट में देना होता है |

4.हिंदी निबंध (Hindi Essay)

इस प्रश्न पत्र में तीन प्रश्न होंगे तथा प्रत्येक प्रश्न में तीन निबन्ध होंगे, जिसमें से प्रत्येक प्रश्न से एक-एक निबन्ध को 600 शब्दों में लिखना होगा, प्रत्येक निबन्ध के लिए 40 अंक निर्धारित होते है, यह निबन्ध साहित्य एवं संस्कृति,सामाजिक क्षेत्र, राजनीतिक क्षेत्र, विज्ञान, पर्यावरण एवं प्रौद्योगिकी, आर्थिक क्षेत्र, कृषि एवं व्यापार, राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय घटनाक्रम, प्राकृतिक आपदाएं जैसे-भू-स्खलन, चक्रवात, भूकम्प,बाढ़, सूखा आदि, राष्ट्रीय विकास योजनाएं आदि क्षेत्रों से सम्बन्धित होते है |

यूपीपीएससी परीक्षा की तैयारी कैसे करे